उपनिषद वेदों का ही दूसरा रूप है।

0
81
ved
ved

उपनिषद वेदों (ved) का ही दूसरा रूप है। प्राचीनतम ग्रन्थ को भी उपनिषद कहते हैं।

उपनिषद भारत के प्राचीनतम ग्रन्थों में से एक माने जातें हैं। उपनिषदों को भारतीय दर्शन एवं दार्शनिक विचार भी कहा गया है।

उपनिषदों की रचना कब और किसके द्वारा हुई?

इस बात विद्वान क़भी एक मत नहीं हुए हैं।
किन्तु कुछ विद्वानों का मानना है उपनिषदों की रचना आज से लगभग 1000 से 300 ईसा पूर्व हुई है।
ऋषि मुनियों द्वारा रचना की गई है। कुल 108 उपनिषद हैं।

मुक्तिकोपनिषद” में श्लोक संख्या 30 से 39 तक, 108 उपनिषदों की सूची दी गई है।

"<yoastmark

इन 108 उपनिषदों में से-

ऋग्वेद के 10 उपनिषद हैं।

शुक्ल यजुर्वेद के 19 उपनिषद हैं।

कृष्ण यजुर्वेद के 32 उपनिषद हैं।

सामवेद के 16 उपनिषद हैं।

अथर्ववेद के 31 उपनिषद हैं।

108 उपनिषदों में से 10 मुख्य उपनिषद कहा जाता है,
21 उपनिषदों की सामान्य वेदांत,
23 उपनिषदों को संन्यास,
9 को उपनिषदों को शाक्त,
13 उपनिषदों को वैष्णव,
14 को शैव एवं 17 उपनिषदों को योग उपनिषदों कहा गया है।

 

मुख्य उपनिषद-:

विषयों की गंभीरता एवं समय के साथ जीवन मे विशेष उपयोगी 13 उपनिषद मुख्य एवं प्राचीन भी माने जाते हैं।

जिनमें से 10 उपनिषदों पर जगद्गुरू आदिशंकराचार्य जी ने अपना भाष्य भी दिया है।

 

ऋग्वेद (rigveda)

1. ऐतरेय उपनिषद,

शुक्ल यजुर्वेद (yajurveda)

2. ईश उपनिषद,
3. बृहदारण्यक उपनिषद,

कृष्ण यजुर्वेद (yajurveda)

4.कठ उपनिषद,
5. तैत्तिरीय उपनिषद,

सामवेद (samaveda)

6. केन उपनिषद,
7. छांदोग्य उपनिषद,

अथर्ववेद (atharvaveda)

8. प्रश्न उपनिषद
9. मांडूक्य एवं
10. मुण्डकोपनिषद।

उन्होंने 3 उपनिषद को प्रमाण कोटि में रखा है-

1. श्वेताश्वतर 2. कौषीतकि तथा 3. मैत्रायणी उपनिषद।

मुण्डकोपनिषद में से ही हमारे राष्ट्रीय का प्रतीक सत्यमेव जयते लिया गया है।

 

108 उपनिषद

1. ईश = शुक्ल यजुर्वेद, मुख्य उपनिषद्
2. केन उपनिषद् = साम वेद, मुख्य उपनिषद्
3. कठ उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, मुख्य उपनिषद्
4. प्रश्न उपनिषद् = अथर्व वेद, मुख्य उपनिषद्
5. मुण्डक उपनिषद् = अथर्व वेद, मुख्य उपनिषद्
6. माण्डूक्य उपनिषद् = अथर्व वेद, मुख्य उपनिषद्
7. तैत्तिरीय उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, मुख्य उपनिषद्
8. ऐतरेय उपनिषद् = ऋग् वेद, मुख्य उपनिषद्
9. छान्दोग्य उपनिषद् = साम वेद, मुख्य उपनिषद्
10. बृहदारण्यक उपनिषद् = शुक्ल यजुर्वेद, मुख्य उपनिषद्

11. ब्रह्म उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, संन्यास उपनिषद्
12. कैवल्य उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, शैव उपनिषद्
13. जाबाल उपनिषद् (यजुर्वेद) = शुक्ल यजुर्वेद, संन्यास उपनिषद्
14. श्वेताश्वतर उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, सामान्य उपनिषद्
15. हंस उपनिषद् = शुक्ल यजुर्वेद, योग उपनिषद्
16. आरुणेय उपनिषद् = साम वेद, संन्यास उपनिषद्
17. गर्भ उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, सामान्य उपनिषद्
18. नारायण उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, वैष्णव उपनिषद्
19. परमहंस उपनिषद् = शुक्ल यजुर्वेद, संन्यास उपनिषद्
20. अमृत-बिन्दु उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, योग उपनिषद्

MUSIC SE CHAKRAS-: Read…

21. अमृत-नाद उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, योग उपनिषद्
22. अथर्व-शिर उपनिषद् = अथर्व वेद, शैव उपनिषद्
23. अथर्व-शिख उपनिषद् =अथर्व वेद, शैव उपनिषद्
24. मैत्रायणि उपनिषद् = साम वेद, सामान्य उपनिषद्
25. कौषीतकि उपनिषद् = ऋग् वेद, सामान्य उपनिषद्
26. बृहज्जाबाल उपनिषद् = अथर्व वेद, शैव उपनिषद्
27. नृसिंहतापनी उपनिषद् = अथर्व वेद, वैष्णव उपनिषद्
28. कालाग्निरुद्र उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, शैव उपनिषद्
29. मैत्रेयि उपनिषद् = साम वेद (ved), संन्यास उपनिषद्
30. सुबाल उपनिषद् = शुक्ल यजुर्वेद, सामान्य उपनिषद्

31. क्षुरिक उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, योग उपनिषद्
32. मान्त्रिक उपनिषद् = शुक्ल यजुर्वेद, सामान्य उपनिषद्
33. सर्व-सार उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, सामान्य उपनिषद्
34. निरालम्ब उपनिषद् = शुक्ल यजुर्वेद, सामान्य उपनिषद्
35. शुक-रहस्य उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, सामान्य उपनिषद्
36. वज्रसूचि उपनिषद् = साम वेद, सामान्य उपनिषद्
37. तेजो-बिन्दु उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, संन्यास उपनिषद्
38. नाद-बिन्दु उपनिषद् = ऋग् वेद, योग उपनिषद्
39. ध्यानबिन्दु उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, योग उपनिषद्
40. ब्रह्मविद्या उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, योग उपनिषद्

AJANTA CAVES अजंता की गुफायें-: Read…

"<yoastmark

41. योगतत्त्व उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, योग उपनिषद्
42. आत्मबोध उपनिषद् = ऋग् वेद, सामान्य उपनिषद्
43. परिव्रात् उपनिषद् (नारदपरिव्राजक) = अथर्व वेद, संन्यास उपनिषद्
44. त्रिषिखि उपनिषद् = शुक्ल यजुर्वेद, योग उपनिषद्
45. सीता उपनिषद् = अथर्व वेद, शाक्त उपनिषद्
46. योगचूडामणि उपनिषद् = साम वेद, योग उपनिषद्
47. निर्वाण उपनिषद् = ऋग् वेद, संन्यास उपनिषद्
48. मण्डलब्राह्मण उपनिषद् = शुक्ल यजुर्वेद, योग उपनिषद्
49. दक्षिणामूर्ति उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, शैव उपनिषद्
50. शरभ उपनिषद् = अथर्व वेद, शैव उपनिषद्

51. स्कन्द उपनिषद् (त्रिपाड्विभूटि) = कृष्ण यजुर्वेद, सामान्य उपनिषद्
52. महानारायण उपनिषद् = अथर्व वेद (ved), वैष्णव उपनिषद्
53. अद्वयतारक उपनिषद् = शुक्ल यजुर्वेद, संन्यास उपनिषद्
54. रामरहस्य उपनिषद् = अथर्व वेद, वैष्णव उपनिषद्
55. रामतापणि उपनिषद् = अथर्व वेद, वैष्णव उपनिषद्
56. वासुदेव उपनिषद् = साम वेद, वैष्णव उपनिषद्
57. मुद्गल उपनिषद् = ऋग् वेद, सामान्य उपनिषद्
58. शाण्डिल्य उपनिषद् = अथर्व वेद, योग उपनिषद्
59. पैंगल उपनिषद् = शुक्ल यजुर्वेद, सामान्य उपनिषद्
60. भिक्षुक उपनिषद् = शुक्ल यजुर्वेद, संन्यास उपनिषद्

SWACHH BHARAT-: Read…

61. महत् उपनिषद् = साम वेद, सामान्य उपनिषद्
62. शारीरक उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, सामान्य उपनिषद्
63. योगशिखा उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, योग उपनिषद्
64. तुरीयातीत उपनिषद् = शुक्ल यजुर्वेद, संन्यास उपनिषद्
65. संन्यास उपनिषद् = साम वेद, संन्यास उपनिषद्
66. परमहंस-परिव्राजक उपनिषद् = अथर्व वेद, संन्यास उपनिषद्
67. अक्षमालिक उपनिषद् = ऋग् वेद, शैव उपनिषद्
68. अव्यक्त उपनिषद् = साम वेद, वैष्णव उपनिषद्
69. एकाक्षर उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, सामान्य उपनिषद्
70. अन्नपूर्ण उपनिषद् = अथर्व वेद, शाक्त उपनिषद्

71. सूर्य उपनिषद् = अथर्व वेद, सामान्य उपनिषद्
72. अक्षि उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, सामान्य उपनिषद्
73. अध्यात्मा उपनिषद् = शुक्ल यजुर्वेद, सामान्य उपनिषद्
74. कुण्डिक उपनिषद् = साम वेद (ved), संन्यास उपनिषद्
75. सावित्रि उपनिषद् = साम वेद, सामान्य उपनिषद्
76. आत्मा उपनिषद् = अथर्व वेद, सामान्य उपनिषद्
77. पाशुपत उपनिषद् = अथर्व वेद, योग उपनिषद्
78. परब्रह्म उपनिषद् = अथर्व वेद, संन्यास उपनिषद्
79. अवधूत उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, संन्यास उपनिषद्
80. त्रिपुरातपनि उपनिषद् = अथर्व वेद, शाक्त उपनिषद्

"<yoastmark

हिंगलाज माता मन्दिर पाकिस्तान-: Read…

 81. देवि उपनिषद् = अथर्व वेद (ved), शाक्त उपनिषद्
82. त्रिपुर उपनिषद् = ऋग् वेद, शाक्त उपनिषद्
83. कठरुद्र उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, संन्यास उपनिषद्
84. भावन उपनिषद् = अथर्व वेद, शाक्त उपनिषद्
85. रुद्र-हृदय उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, शैव उपनिषद्
86. योग-कुण्डलिनि उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, योग उपनिषद्
87. भस्म उपनिषद् = अथर्व वेद, शैव उपनिषद्
88. रुद्राक्ष उपनिषद् = साम वेद, शैव उपनिषद्
89. गणपति उपनिषद् = अथर्व वेद, शैव उपनिषद्
90. दर्शन उपनिषद् = साम वेद, योग उपनिषद्

91. तारसार उपनिषद् = शुक्ल यजुर्वेद, वैष्णव उपनिषद्
92. महावाक्य उपनिषद् = अथर्व वेद, योग उपनिषद्
93. पञ्च-ब्रह्म उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, शैव उपनिषद्
94. प्राणाग्नि-होत्र उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, सामान्य उपनिषद्
95. गोपाल-तपणि उपनिषद् = अथर्व वेद, वैष्णव उपनिषद्
96. कृष्ण उपनिषद् = अथर्व वेद, वैष्णव उपनिषद्
97. याज्ञवल्क्य उपनिषद् = शुक्ल यजुर्वेद, संन्यास उपनिषद्
98. वराह उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, संन्यास उपनिषद्
99. शात्यायनि उपनिषद् = शुक्ल यजुर्वेद, संन्यास उपनिषद्
100. हयग्रीव उपनिषद् (१००) = अथर्व वेद, वैष्णव उपनिषद्

101. दत्तात्रेय उपनिषद् = अथर्व वेद (ved), वैष्णव उपनिषद्
102. गारुड उपनिषद् = अथर्व वेद, वैष्णव उपनिषद्
103. कलि-सन्तारण उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, वैष्णव उपनिषद्
104. जाबाल उपनिषद् (सामवेद) = साम वेद, शैव उपनिषद्
105. सौभाग्य उपनिषद् = ऋग् वेद, शाक्त उपनिषद्
106. सरस्वती-रहस्य उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, शाक्त उपनिषद्
107. बह्वृच उपनिषद् = ऋग् वेद, शाक्त उपनिषद्
108. मुक्तिक उपनिषद् = शुक्ल यजुर्वेद, सामान्य उपनिषद।

इन सभी उपनिषदों में से मांडूक्योपनिषद सबसे छोटा है मात्र 12 श्लोक एवं छांदोग्य उपनिषद सबसे बड़ा उपनिषद है।
एवं इशावास्योपनिषद सबसे पुराना उपनिषद है क्योंकि यह यजुर्वेद (yajurveda) का ही अंतिम अध्याय है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here