DIWALI POEM दीपावली कविता हिंदी

3
56
DIWALI POEM
DIWALI POEM

DIWALI दिवाली

 

ब्रांडेड आइटम महंगे में, खूब बिके थे बाजारों में।
भारत की मिट्टी हार गई, भारत की ही मिट्टी में।।
जाने में अनजाने में, फंडिंग करदी दहशत गर्दी में…

 

भारत की मिट्टी हार गई थी, कांच के कुछ टुकड़ों में।
चाइनीज़ आइटम खूब बिके थे, भारत के त्यौहारों में।।
जाने में अनजाने में, फंडिंग करदी दहशत गर्दी में…

 

भारत की मिट्टी को लेकर मिट्टी में, बैठी थी अम्मा गर्मी में।
कुछ उम्मीदें थीं बाजारों में, हम तो घुस गए ऐसी वाले मॉलो में।।
जाने में अनजाने में, फंडिंग करदी दहशत गर्दी में…

 

(DIWALI) दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

DIWALI POEM
DIWALI POEM

चाइना की रौनक खूब लगी थी, भारत के बाजारों में।
भारत की मिट्टी हार गई थी, भारत के त्यौहारों में।।
जाने में अनजाने में, फंडिंग करदी दहशत गर्दी में…

 

मेरी दिवाली(DIWALI) हार गई थी, भारत के बाजारों में।
चाइना की GDP बढ रही थी, भारत के त्यौहारों में।।
जाने में अनजाने में, फंडिंग करदी दहशत गर्दी में…

 

मिट्टी के दीपक फीके पड़ गए, दीप जल गए लाइटों में।
मिट्टी की खुशबू छोड़ गए, घर जगमग हो गए लड़ियो में।।
जाने में अनजाने में, फंडिंग करदी दहशत गर्दी में…

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

 

मिठाईयां भी फीकी पड़ गईं, ना स्वाद था रसगुललों और जलेबी में।
ब्रांडेड चॉकलेट खूब बिकी थीं, खुशियों की दिवाली (DIWALI) में।।
जाने में अनजाने में, फंडिंग करदी दहशत गर्दी में…

 

खादी भी बैठी रह गई, जीन्स वाले इस फैशन में।
विदेशी कपड़े खूब बिके थे, भारत के त्यौहारों में।।
जाने में अनजाने में, फंडिंग करदी दहशत गर्दी में…

 

बम बारूद के गोले बन गये, दिवाली की इस कमाई में।
बोर्डर पर सैनिक शहीद हो गये, दिवाली वाली रात में।।
जाने में अनजाने में, फंडिंग करदी दहशत गर्दी में…

HAPPY DIWALI दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here