Home धर्म संसार

धर्म संसार

ज्योतिर्लिंग

भगवान शिव 12 ज्योतिर्लिंग के रूप में साक्षात विराज मान हैं।

1
भगवान शिव 12 ज्योतिर्लिंग के रूप में साक्षात विराज मान हैं। प्रतिदिन प्रातः 12 ज्योतिर्लिंगों का नाम जपने मात्र से सात जन्मों तक के पाप...
जेंद अवेस्ता

जेंद अवेस्ता पारसियों का धर्मग्रंथ है

0
जेंद अवेस्ता पढ़ने में ऋग्वेद का ही भाग लगता है।   'जेंद अवेस्ता' पारसियों का धर्म ग्रंथ पढ़ने में ऋग्वेद का ही भाग लगता है। भाषाओं में...
KANWAR

KANWAR क्या है क्यों लाते हैं कांवर

2
KANWAR में गंगाजल का क्या महत्व है।   KANWAR श्रावण मास में लाने का प्रचलन सदियों से है। श्रावण माह के प्रत्येक सोमवार को घर के पास वाले...
जरथुष्ट्र

पारसी धर्म की शुरुआत ईरान से हुई थी।

0
पारसी धर्म की शुरुआत ईरान से हुई थी।   माना जाता है कि इस पारसी धर्म की स्थापना आर्यों की ईरानी शाखा के एक प्रोफेट जरथुष्ट्र...
Sri Guru Granth Sahib

Sri Guru Granth Sahib श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी का प्रथम प्रकाश दिवस

0
श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी   30 अगस्त 1604 ही के दिन Sri Guru Granth Sahib दा पहली बार प्रकाश स्वर्ण मंदिर गुरुद्वारा श्री अमृतसर सहिब...
BHAGWAT GEETA

BHAGWAT GEETA में लिखी ये 10 बातें क्या कलयुग में सच हो रही हैं...

0
BHAGWAT GEETA मे लिखी ये बातें इस कलयुग में सच होती दिखाई दे रही है। Bhagwat Geeta पर हमें गर्व है जिसमें कलयुग की भविष्यवाणी इतनी...
श्री कृष्णा

एक ऐसा महान ग्रंथ जिसे स्वयं भगवान श्री कृष्ण जी ने अर्जुन को सुनाया...

2
एक ऐसा महान ग्रंथ जिसे स्वयं भगवान श्री कृष्ण जी ने अर्जुन को सुनाया था। जब मैंने जाना आत्मा भी होती है और आत्मा में...
वास्तु शास्त्र

वास्तु शास्त्र

0
वास्तु शास्त्र के देवता वास्तु वास्तु सिर्फ शास्त्र या किसी विशेष धर्म के लिए नहीं है। यह तो एक विज्ञान है हमारे पूर्वजों के द्वारा निर्धारित...

MOST POPULAR

HOT NEWS