Home धर्म संसार

धर्म संसार

Rakshabandhan Nariyal Purnima

Rakshabandhan एवं नारियल पूर्णिमा का विशेष महत्व है।

0
Rakshabandhan रक्षाबंधन एवं नारियल पूर्णिमा क्यों मनाते हैं ?   Rakshabandhan और नारियल दोनों पर्व एक ही दिन मनाए जाते हैं। श्रावण माह की पूर्णिमा के दिन...
Shravan Month

Shravan Month को सबसे ज्यादा शुभ माना जाता है।

2
श्रावण मास (Shravan Month) का विशेष महत्व है   Shravan Month (सावन) को सभी माह में महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। इसका विशेष कारण यह भी है कि इस...
भुवनेश्वरी

भुवनेश्वरी माँ दस महाविद्याओं में से एक हैं।

0
आदिशक्ति माँ भुवनेश्वरी   माँ भुवनेश्वरी को आदिशक्ति और मूल प्रकृति भी कहा गया है। भुवनेश्वरी देवी दस महाविद्याओं में से एक हैं। दस महा विद्या 1. काली 2. तारा 3. त्रिपुरसुंदरी 4....
BHAGWAT GEETA

BHAGWAT GEETA में लिखी ये 10 बातें क्या कलयुग में सच हो रही हैं...

1
BHAGWAT GEETA मे लिखी ये बातें इस कलयुग में सच होती दिखाई दे रही है। Bhagwat Geeta पर हमें गर्व है जिसमें कलयुग की भविष्यवाणी इतनी...
जेंद अवेस्ता

जेंद अवेस्ता पारसियों का धर्मग्रंथ है

0
जेंद अवेस्ता पढ़ने में ऋग्वेद का ही भाग लगता है।   'जेंद अवेस्ता' पारसियों का धर्म ग्रंथ पढ़ने में ऋग्वेद का ही भाग लगता है। भाषाओं में...
जरथुष्ट्र

पारसी धर्म की शुरुआत ईरान से हुई थी।

1
पारसी धर्म की शुरुआत ईरान से हुई थी।   माना जाता है कि इस पारसी धर्म की स्थापना आर्यों की ईरानी शाखा के एक प्रोफेट जरथुष्ट्र...
श्री कृष्णा

एक ऐसा महान ग्रंथ जिसे स्वयं भगवान श्री कृष्ण जी ने अर्जुन को सुनाया...

1
एक ऐसा महान ग्रंथ जिसे स्वयं भगवान श्री कृष्ण जी ने अर्जुन को सुनाया था। जब मैंने जाना आत्मा भी होती है और आत्मा में...
ज्योतिर्लिंग

भगवान शिव 12 ज्योतिर्लिंग के रूप में साक्षात विराज मान हैं।

2
भगवान शिव 12 ज्योतिर्लिंग के रूप में साक्षात विराज मान हैं। प्रतिदिन प्रातः 12 ज्योतिर्लिंगों का नाम जपने मात्र से सात जन्मों तक के पाप...

MOST POPULAR

HOT NEWS